सोमवार, 2 अगस्त 2010

राधे राधे जाप बाप रे बाप





कथनी करनी मे कितना अन्तर होता है वह सामने आने पर पता चलता है कुछ ऐसी ही मनोदशा मेरी है समझ मे नही रहा था कि बुड्ढे लोगो के साथ रहू या नवजवान पीढी के साथ रहू साप छ्छून्दर की स्थिति हो गइ थी अब निर्णय ले लिया है अपुन तो प्रेम के साथ रहूगा जहा प्रेम है वही ईश्वरानुभूती है बडी आलोचनायें मेरी भी हुई बुजुर्गो ने कहा कि जब अपने बच्चे प्रेम विवाह करेगे तो आदर्श देखा जायेगा वे मानो मन ही मन शापित कर रहे है कि जा तेरी भी सन्तान ऐसा ही करे जैसा आज मेरे पुत्र ने किया यानी विवाह के पूर्व प्रेम करे फ़िर उसी लडकी से विवाह भी कर ले जिससे प्रेम किया था मै तो इससे भी ज्यादा आशीर्वाद इन बुजुर्गो से चाहूँगा कि वे यह भी कह दे कि जा इन बच्चो को शादीशुदा जिन्दगी मे भी विवाहपूर्व का प्रेम बना रहे
वैसे एक राज की बात बता दू मेरे ताऊ जी बडे ही आध्यात्मिक है कृष्णलाल के दीवाने है मिलने पर राधे राधे का ही अभिवादन करते है जब देखो तब राधे राधे का ही गाना मोबाइल के रिन्गटोन मे बजता रहता है अपने ज्येष्ठ पुत्र का नाम भी उन्होने राधा रमण रखा ईश्वर की कृपा कुछ ऐसी हुई कि बेटा राधा रमण नाम के अनुरूप कुन्ज गलियो मे किसी बिन्दु के साथ प्रेम सीखते सीखते बिन्दुवार विन्दुगामी होते हुए रेखा के प्रेम मे ऐसा रमण किये कि पूर्णाकार रेखामय हो गये तथा यही अपने प्रेम का पूर्णविराम लगा कर गृहस्थ धर्म मे लीन होने की ठान लिये ताऊ जी को नागवार लगा कि चूमा चाटी तक तो ठीक था लेकिन विजातीय कन्या को बहू बनाना हे कृष्ण इस अधम पुत्र को सदबुद्धि दे लड्का कमाऊ था एम एन सी मे काम करता था उसने कोर्ट मैरिज कर ली आशीर्वादों के लिये सन्देश भेजे ताउ ताई नही गये सो खाप तो नही लेकिन बाप पन्चायत ने एलान कर दिया कि अब इस लडके का हुक्का पानी बन्द जो इससे सम्बन्ध रखना चाहता हो उसका भी मेरे यहा आना जाना बन्द समझा जायेगा
प्यार का इतना विरोध ? खासकर उस देश में जहां प्रेम के देवता कृष्ण को घर-घर पूजा जाता है, जहां हर मूवी लव स्टोरी पर आधारित होती है और प्यार के गाने हर किसी की ज़बान पर हैं, वहां प्यार का इस कदर विरोध क्यों? शायद इसलिए कि राधा-कृष्ण के प्यार को अध्यात्म के रस में डुबो कर उसे दूसरे रूप में परोसा जा सकता है, फिल्मी प्यार से किसी के परिवार पर कोई अच्छा-बुरा असर नहीं होता, लेकिन घर में अगर लड़का या लड़की अपनी मर्जी से शादी का ऐलान कर दे तो उससे परिवार का सारा समीकरण ही बिगड़ जाता है। जिस समाज में अधिकतर लड़के आज भी अपनी शादी के बारे में कुछ नहीं बोलते और बड़े-बुजुर्गों द्वारा दहेज़ लेकर तय की गई दुल्हन को चुपचाप स्वीकार कर लेते हैं, वहां अगर कोई बागी यह कहे कि मैं अपना दूल्हा या दुल्हन खुद चुनूंगा या चुनूंगी तो घर के और समाज के बड़े-बुजुर्गों के लिए यह एक चुनौती के समान है और वे वैसे ही भड़क उठते हैं जैसे अकबर भड़क उठा था जब सलीम ने अनारकली को मलिका--हिदुस्तान बनाने का ऐलान किया था।

हमारे यहां शादी को प्यार से कभी जोड़ा ही नहीं गया। हमारे यहां शादी इसलिए होती है ताकि जवान बेटे को अपनी शारीरिक ज़रूरतों को पूरा करने के लिए एक नारीदेह मिल जाए जो उसके बच्चे भी पैदा करे और घरबार भी देखे। साथ ही बिना शिकवा-शिकायत अपने पति के साथ-साथ पूरे ससुराल की सेवा भी करे। यानी ऐसी सेविका जो बिल्कुल दब्बू किस्म की हो और हर आज्ञा को माने। लेकिन जब कोई लड़का अपनी पसंद की लड़की से प्यार करता है तो मां-बापों-चाचा-ताउओं को डर लगता है कि इतनी हिम्मतवाली बहू शायद ससुराल में वैसी सेविका बनकर नहीं रहे और शायद बेटा भी उनके हाथ से निकल जाए। तो ऐसे में प्यार का विरोध तो होगा ही। खासकर वे लोग तो करेंगे ही जो अभी मां-बाप या चाचा-ताऊ की जगह पर बैठे हुए हैं। और वे भी करेंगे जो उन्हीं की मानसिकता में जी रहे हैं। प्यार के प्रति इस विरोध की आग में घी का काम करता है जातीय और धार्मिक विद्वेष। और तब यह किसी परिवार का व्यक्तिगत मसला रहकर जातीय या धार्मिक मसला बन जाता है। जब अपनी जाति या धर्म का लड़का (या लड़की) किसी और जाति या धर्म के लड़के (या लड़की) से प्यार करता पाया जाता है तो छोटों-बड़ों सबकी पहली प्रतिक्रिया यही होती है - क्या अपने यहां लड़के (या लड़की) मर गए थे? यानी सबको लगता है कि किसी और जाति-धर्म के बंदे या बंदी से शादी करके इसने सारी जाति की इंसल्ट कर दी है। और इस इंसल्ट का बदला लेने के लिए समाज के ताकतवर लोग परिवार का हुक्का-पानी बंद कर देते हैं या फिर लड़के-लड़की को जान से मारने का फरमान जारी कर देते हैं।


लेकिन अच्छी बात यह है कि इन सब के बावजूद प्यार कम हो रहा है प्रेम विवाह। कम ही संख्या में सही, आज गांवों-देहातों से भी ऐसे युवक-युवतियां सामने रहे हैं जो सारे खतरे उठाकर अपनी ज़िंदगी के फैसले खुद कर रहे हैं। कोई भी बदलाव शुरुआत में कुछ प्राणों की आहुति लेता है। कोई भी क्रांति शहादत के बिना पूरी नहीं होती। रिज़वान हो या कटारा, कुलदीप हो या शुभाये वे लोग हैं जिन्होंने जीवनसाथी चुनने के दकियानूसी तरीके को चुनौती दी थी, जिन्होंने जाति और धर्म के भेदभाव को मानने से इनकार कर दिया था। यही वे लोग हैं जो जाति और धर्म में बंटे इस देश के लिए उम्मीद की किरण बनकर आए थे। मैं इन सबको नमन करता हूं और उम्मीद करता हूं कि देश में खाप मानसिकता वाले लोगों के बहुमत के बावजूद आखिरी जीत प्यार की ही होगी।
भारत में कितने अपराध होते हैंबलात्कार, चोरी, लूट, आतंकवादी घटनाएं, सांप्रदायिक दंगे। लेकिन आज तक मैंने कहीं नहीं पढ़ा या सुना कि किसी बाप ने अपने बलात्कारी बेटे को मार डाला या किसी खाप या बाप पंचायत ने उन्हें मौत की सज़ा सुनाई। उल्टे वे पुलिस पर आरोप लगाते हैं कि लड़के को गलत फंसाया गया है। भारत में आतंकवाद की कितनी वारदातें हुईं और कई लोग पकड़े गए लेकिन आज तक किसी आतंकवादी के पिता या भाई ने उसकी हत्या का प्रयास नहीं किया ही किसी समाज ने फतवा जारी किया कि ऐसे आतंकवादी को गोली से उड़ा दिया जाए। देश भर में दंगों में कितने ही बेगुनाहों की जानें गईं, बापों ने देखा, खापों ने देखा, लेकिन वह समाज कभी यह कहने नहीं आया कि इन दंगाइयों को सरेआम फांसी पर चढ़ा दिया जाए, बल्कि वह समाज और उसके पंच ही उनको बचाने पर जुटे हुए हैं। दंगाई हीरो हो गए, एमएलए और एमपी हो गए। बेटा जुआ खेले, लड़कियों को छेड़े, शराब पीकर हंगामा करे, उसको कोई सज़ा नहीं है लेकिन कोई प्यार करे तो वह इतना बड़ा गुनाह कि उनकी हत्या कर दी जाए।
हे इश्वर इन्हे क्षमा करना जो तेरे ही नाम का कर्म का गुण गान रात दिन करते है और प्रेम मार्ग पर चलने वालो को जाति धर्म के नाम पर यमराज बन कर मार डालते है

7 टिप्‍पणियां:

बेनामी ने कहा…

बाप रे बाप राधे राधे जाप --नहीं तो क्या बुलाऊँ खाप

gaurtalab ने कहा…

bahut sanvednapurn aur ghambhir baate kahi...shat-pratishat wajib aur sahi

Arvind Mishra ने कहा…

बस तोड़ दिया है गुरु ..राधे राधे .....

Arvind Mishra ने कहा…

बस तोड़ दिया है गुरु ..राधे राधे .....

alok ने कहा…

kafi jwalant mudde par gambir vichar....

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

सचमुच राधे राधे ही कहा जा सकता है।
………….
जिनके आने से बढ़ गई रौनक..
...एक बार फिरसे आभार व्यक्त करता हूँ।

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

बढ़िया है। लेकिन एक वर्ष से प्रेम की वंशी खामोश क्यों है?