शुक्रवार, 18 सितंबर 2009

सरकार सुप्रीम कोर्ट समलैंगिकता

काफी पशोपेश के बाद सरकार ने उच्चतम न्यायालय के समलैंगिकता के प्रश्न पर अपना रुख स्पष्ट करने के सवालपर चुप्पी साध ली तथा कोर्ट को सहयोग करने की बात कह दी कुछ दिन पूर्व ऐसा लगता था की सरकार में बैठेलोग खास तौर से मोइली साहिब इसके बारे में स्पष्ट रूख करेंगे लेकिन लगता है की सरकार पर समलिंगी समर्थकहोने का ठप्पा लग जाए इस कारन से और इससे वोट बैंक भी नही जुडा है इस कारन से सरकार पीछे हट गई मेरेख़याल से वोट बैंक तो बड़ा है लेकिन उसको लेकर कोई वारिस बन कर दल सामने नहीं है इस मुद्दे पर विचारक जगदीश चतुर्वेदी का यह लेखांश पठनीय विचारणीय है
"अधिकांश राजनीतिक दल भी अपनी तलवारें लेकर मीडिया के मैदान में गए हैं और इस सबसे समलैंगिकताके बारे में गलत समझ पैदा की जा रही है। हिन्दी उर्दू की साझा परंपरा में दो महत्वपूर्ण लेखिकाएं हैं जिन्होंनेसमलैंगिकता के सवाल पर बेहतरीन रचनाएं लिखी हैं। उर्दू में इस्मत चुगताई ने सन 1941 में 'लिहाफ' कहानीलिखी थी और हिन्दी में पहला लेस्बियन उपन्यास आशा सहाय ने 'एकाकिनी' के नाम से 1947 में प्रकाशित कियाथा। हिंदी के प्रसिद्ध साहित्यकार शिवपूजन सहाय ने इस उपन्यास की भूमिका लिखी थी। असल में समलैगिंकतातयशुदा लिंग विभाजन के आधार पर प्रेम की धारणा को चुनौती है। समलैंगिकों को सामाजिक व्यवस्था में सबसेज्यादा उत्पीड़न और अपमान झेलना पडता है। हमारे समाज में सेक् और प्रेम दोनों ही उत्पीड़न करने के बहानेहैं। इसमें भी यदि समलैंगिक प्रेम है तो खैर नहीं। समलैंगिकता का देहभोग से कम और एक ही समानधर्मा लिंग केसाथ प्रेम का संबंध ज्यादा है। समलैंगिक संसार अनुभूतियों का संसार है। यह पाप या पुण् की कोटि से परे है।यहस्वाभाविक संसार है। यह दो प्राणियों या मित्रों का मिलना है। इसी प्रसंग में 'काम' या सेक् की भारतीय धारणा परविचार करना सही होगा। वात्स्यायन ने 'कामसूत्र' के दूसरे अध्याय में 'काम' की धारणा पेश करते हुए लिखा है '' स्पर्शविशेषविषयात्वस्याभिमाननिकसुखानुबिद्धा फलवत्यर्थ प्रतीति : प्राधान्यात्काम:'' अर्थातचुम्बन,आलिंगन,प्रासंगिक सुख के साथ गाल,स्तन,नितम् आदि विशेष अंगों के स्पर्श से आनन् की जो प्राप्िहोती है वह 'काम' है। इस प्रसंग में ही दूसरी महत्वपूर्ण बात जो वात्स्यायन ने रेखांकित की है ि कामशास्त्र कोकिसी निपुण व्यक्ि से जानना चाहिए।
मीडिया में बार बार ऐसी बातें कही जा रही हैं जिससे यह आभास पैदा किया जा रहा है कि सेक् तो स्वाभाविकहोता है उसके लिए शिक्षा की कोई जरूरत नहीं है,देखो पशु भी सेक् करते हैं वे तो ज्ञान अर्जित करके सेक् नहींकरते। वात्स्यायन ने इस धारणा को भी चुनौती दी है। वात्स्यायन का मानना था सेक् शिक्षा प्रत्येक व्यक्ि कोदी जानी चाहिए और सेक् शिक्षा से व्यक्ि भय,लज्जा, और पराधीनता से मुक् होता है। आनंद ,सुखी औरसम्पन् बनता है। मजेदार बात यह है कि जो लोग समलैंगिकता के सवाल पर गुलगपाडा मचा रहे हैं वे ही सेक्शिक्षा का भी विरोध कर रहे हैं। वात्स्यायन के टीकाकारों ने लिखा है सेक् शिक्षा से दायित्वबोध, परोपकार औरउदात् भावों का जन् होता है। अपने सहचर के प्रति श्रद्धा,विश्वास, हित कामना और अनुराग में व़ृद्धि होती है।सेक् शिक्षा के अभाव में अनबन,कलह, असन्तोष, वेश्यावृत्ति, व्यभिचार आदि पैदा होता है। जो लोगसमलैंगिकता के सवाल पर दिल्ली उच् न्यायालय के निर्णय से गुस्से में तनतनाए मीडिया में बोल रहे हैं अथवाइसके बुरे नतीजों के बारे में आगाह कर रहे हैं उनमें अधिकांश फंडामेंटलिस् हैं अथवा तथाकथित लिबरल दल केलोग हैं। फंडामेंटलिस्टों और साम्प्रदायिक संगठनों या धार्मिक संगठनो के नेताओं से सिर्फ इतना ही निवेदन है किवे कृपया अपने धर्म को जाकर संभालें ,सेक् और प्रेम उनका क्षेत्र नहीं है।"
समलैंगिकता असल में पहचान,अनुभूति और मानवाधिकार का मामला है,यह देह व्यापार अथवा देहभोग तक हीसीमित मामला नहीं है। समलैंगिक अधिकार का सवाल मूलत: पितृसत्तात्मक विचारधारा के खिलाफ खुलीबगावत है। यह राजनीतिक नजरिया है। पुरूष वर्चस् का विरोध करना इसका प्रधान लक्ष् है। समलैंगिक हमेशाअपनी काम संबंधी भूमिका का अतिक्रमण करता है। समलैंगिक एक नयी परिभाषा और नयी
‍‍‍ ‍‍ ‍‍ ‍‍‍‍ ‍‍ ‍‍ ‍‍‍ ‍‍‍ ‍‍‍‍ ‍‍‍‍ भावानुभूति कों सामने लेकर आए हैं
यह ऐसा अनुभव है जिसे सामान् जीवन में महसूस करना संभव नहीं है। फलत: समलैंगिक हमें असामान्लगता है ,समाज के बाहर प्रतीत होता है।यही वह विचारधारात्मक बिंदु है जिसे दिल्ली उच् न्यायालय ने पहचानाहै। इस प्रसंग में उल्लेखनीय है कि पहचान के सवाल जब भी उठते हैं सामाजिक हंगामा होता है परंपरापंथी सड़कोंपर जाते हैं। किंतु बाद में वे भी ठंडे पड़ जाते हैं। समलैंगिकता के सवाल पर भी यही होगा। समलैंगिकता सेपरिवार टूटने वाले नहीं है और युवावर्ग पथभ्रष् होने वाला नहीं है। दिल्ली उच् न्यायालय का फैसला सिर्फ एकफैसला नहीं है बल्कि असाधारण फैसला हैसमलैंगिकता के सवाल पर कानूनी फैसला हजारों आत्माओं की त्रासदयात्रा के गर्भ से पैदा हुआ है। यह समलैंगिकों के लिए नव् उदार वातावरण की मलहम है। यह लोकतांत्रिक फैसला है इसका व्यापक स्वागत किया जाना चाहिए साथ ही इस संबंध में कानूनी फेरबदल भी किया जानाचाहिए।"
देखना है
‍‍ ‍‍‍‍ ‍ ‍‍‍‍ ‍ ‍ ‍‍ सुप्रीम कोर्ट के paale में गेंद को कौनगोल करता है सरकार तो ऑफ़ साइड हो चुकी है
जगदीश चतुर्वेदी से साभार

4 टिप्‍पणियां:

सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी ने कहा…

जगदीश चतुर्वेदी जी ने बहुत अच्छा और तार्किक लेख लिखा है। इसे यहाँ प्रस्तुत कर पढ़वाने का आभार।

समलैंगिक प्रवृत्तियाँ भी प्रकृति द्वारा कुछ विशेष मनुष्यों को प्रदान की गयी ऐसी गठरी है जिसे सिर से न उतार सकते हैं न सम्मान से धारण कर सकते हैं। इसमें हमारा समाज भी कम दोषी नहीं है।

Arvind Mishra ने कहा…

वाह इस उद्धृत लेख के बहाने आप खुद अभिव्यक्त हुए हैं -खूबसूरत और कोमल अंदाज में ! यह आलेख ब्रेन वाश करने की ताकत रखता है ! साथ ही नजरे बार बार बाई और के स्लायिडी शो पर फिसल फिसल जा रही थीं !

अनूप शुक्ल ने कहा…

बहुत् अच्छा लगा इसे पढ़कर! पढ़वाने के लिये शुक्रिया!

Harkirat Haqeer ने कहा…

तार्किक लेख ....

अच्छा लगा ...!!